Pages

Wednesday, 7 March 2012

होली!!!

दो अक्षर का नाम है होली
रंगों का त्यौहार है होली
टूटी दिल को जोड़े होली
तार-२ झंकृत हो बोले
हर दिल की बोली
अरे मै तेरी  होली की हाय मै तेरी होली ।


जैसे पतझड़ आकर हमको
यह सन्देश दिलाता
नव क्रिस्लय से सज  जायेंगे
तरुवर हमें सिखाता ।
दर्द भरे पल विस्मृत  करके बन जाये हम जोली
अरे मै तेरी  होली की हाय मै तेरी होली ।।

प्रेम रंग की रिमझिम बारिश
तर करदे अंतर्मन को
रंग -रंगीला गहरे से
निकल न पाए जनम-२
ऋतू बसंत लेकर आई है अरमानो की डोली
अरे मै तेरी  होली की हाय मै तेरी होली ।।







No comments:

Post a Comment